Today News

मप्र के राजभवन से / भाजपा के 106 विधायकों की परेड के बाद राज्यपाल बोले- मुझे अपने आदेश का पालन करवाना आता है

Today News

भोपाल. कमलनाथ सरकार रहेगी या जाएगी, इस पर गहमागहमी जारी है। सोमवार को विधानसभा सत्र शुरू होने के कुछ देर बाद ही स्पीकर ने सदन की कार्यवाही से 26 मार्च तक स्थगित कर दी। सरकार के इस फैसले से राज्यपाल लालजी टंडन नाराज बताए जा रहे हैं। वे विधानसभा में बजट सत्र की औपचारिक शुरुआत करने 9 मिनट की देरी से पहुंचे और पूरा अभिभाषण पढ़े बिना 11 मिनट में राजभवन लौट गए। फ्लोर टेस्ट न कराए जाने पर शिवराज सिंह समेत 106 विधायक राजभवन पहुंचे और राज्यपाल के सामने परेड की। सभी से बात करने के बाद राज्यपाल ने कहा- जब मैंने निर्देश दिए थे तो उसका पालन होना चाहिए था। उन्होंने विधायकों से कहा कि आप निश्चिंत रहिए, जो उचित कार्रवाई होगी, मैं करूंगा। अपने आदेश का पालन करवाना मुझे आता है।


इधर, राज्यपाल के राजभवन आते ही सियासी हलचल बढ़ गई। 20 मिनट बाद कांग्रेस नेता और राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह वहां पहुंचे। उन्होंने वर्तमान घटनाक्रम पर राज्यपाल से करीब एक घंटे चर्चा की। दिग्विजय ने कहा कि हम फ्लोर टेस्ट के लिए हमेशा तैयार हैं। अगर उनके पास बहुमत होता तो वे (भाजपा) सुप्रीम कोर्ट क्यों जाते, वहां भी हम उन्हें करारा जबाव देंगे। इसके बाद भाजपा नेता विनय सहस्रबुद्धे और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा भी राजभवन पहुंचे। उनके साथ भाजपा के सभी विधायक भी बसों में आए। राजभवन के आसपास पुलिस का पहरा है। 

इससे पहले रविवार को सरकार की ओर से विधानसभा की कार्यसूची में केवल अभिभाषण को लिए जाने पर राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को तलब किया था। भाजपा ने सरकार पर संवैधानिक नियमों का पालन नहीं करने का आरोप लगाया है। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने बताया कि सभी भाजपा विधायकों ने शिकायत कि है कि कमलनाथ सरकार ने राज्यपाल के निर्देशों की अवहेलना और अवमानना की है।

राज्यपाल बोले- लोकतंत्र को बचाना मेरी जिम्मेदारी
राज्यपाल विधायकों से पूछा- स्वेच्छा से आए हैं? इस पर विधायकों ने एक साथ ‘हां’ में जवाब दिया। राज्यपाल ने पूछा- कोई दबाव तो नहीं? विधायकों ने कहा- बिल्कुल नहीं। राज्यपाल ने कहा- अब लोकतंत्र बचाने की जिम्मेदारी मेरी है। आपके अधिकारों का हनन नहीं होगा।’


शिवराज ने कहा- कमलनाथ सरकार मैदान छोड़कर भाग गई
राजभवन से शिवराज ने कहा- कमलनाथ की सरकार अल्पमत में है। बहुमत खो चुकी है। इसलिए राज्यपाल ने सरकार को फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दिया था। बहुमत होता तो सरकर को दिक्कत क्या थी? मुख्यमंत्री जानते हैं कि वे अल्पमत में हैं। सरकार डरकर मैदान छोड़कर भाग गई। कांग्रेस के सिर्फ 92 और भाजपा के 106 विधायक हैं। अब ये निश्चित हो गया है कि बहुमत भाजपा के साथ है। हमने राज्यपाल के सामने विधायकों की परेड कराई। सरकार के पास कोई अधिकार नहीं बचा है, इसके बाद भी रोज तबादले किए जा रहे है

Follow Us On You Tube