none

तंज / राहुल का ट्वीट- मोदी बजट के लिए पूंजीपति दोस्तों से तो मिल सकते हैं, लेकिन किसान-छात्र-छोटे कारोबारियों की परवाह नहीं

none

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को नीति आयोग में 40 से ज्यादा अर्थशास्त्रियों और इंडस्ट्री के विशेषज्ञों के साथ बातचीत की थी। इस पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि प्रधानमंत्री को किसानों और छोटे कारोबारियों की कोई चिंता नहीं है।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया,‘‘मोदी बजट पर परामर्श के लिए अपने पूंजीपति दोस्तों से तो मिल सकते हैं, लेकिन उन्हें किसानों, छात्रों, युवाओं, महिलाओं, सरकारी अधिकारियों, छोटे व्यापारियों और मध्यमवर्गीय कर दाताओं से सलाह लेने में कोई दिलचस्पी नहीं है।’’

मोदी का फोकस 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लक्ष्य पर

गुरुवार को बैठक में मोदी का फोकस 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लक्ष्य पर था। उन्होंने अर्थशास्त्रियों से खपत और मांग बढ़ाने के उपायों पर सुझाव मांगे। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद थे। 

बैठक में निर्मला सीतारमण मौजूद नहीं थी

बैठक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की गैरमौजूदगी चौंकाने वाली थी। जब देश के प्रमुख अर्थशास्त्री इकोनॉमी और बजट पर चर्चा कर रहे थे, तब वित्त मंत्री भाजपा मुख्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बजट पूर्व चर्चा कर रही थीं। कांग्रेस ने भाजपा पर निशाना साधते हुए गुरुवार को ट्वीट किया था कि एक सुझाव है। अगली बजट मीटिंग में वित्त मंत्री को बुलाने पर जरूर विचार करना।

मोदी सरकार में सब कुछ ठीक नहीं!
वित्त मंत्रालय के सूत्र ने कहा था कि सरकार में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि कुछ अहम मंत्रियों पर गाज गिर सकती है। हालांकि, 1 फरवरी को पेश होने वाले बजट से पहले कुछ कहना जल्दबाजी होगी। संसद के बजट सत्र का पहला चरण 31 जनवरी से 11 फरवरी के बीच चलेगा। दूसरा चरण 2 मार्च से शुरू होगा और 3 अप्रैल तक चलेगा।