ग्वालियर

बेखौफ चोर / दुकान के ताले टूटने की आवाज से पड़ोसी बाहर आया तो चोर ने कहा- अंदर जा, 8 लाख के गहने लेकर भागे, पीछा किया तो बोले-गोली मार देंगे

ग्वालियर

ईसागढ़/ अशोकनगर। ईसागढ़ के न्यू वैशाली आभूषण मंदिर की ज्वैलरी दुकान से शनिवार-रविवार की दरमियानी रात करीब 10 चोर 8 लाख के जेवर और एक एलईडी चुरा ले गए। चोर इतने बेखौफ थे कि ताले टूटने की आवाज सुनने के बाद पड़ोसी बाहर आया तो उसे चुपचाप जाने के लिए कहा। वहीं भागते समय जब दो सगे भाई उनका पीछा करने लगे तो वे रुककर बोले-भाग जा, वरना गोली मार देंगे। चोरों के इस बेखौफ रवैए से पुलिस प्रशासन की व्यवस्था पर सवाल खड़े हो गए हैं। चोरी की यह वारदात सीसीटीवी कैमरों में कैद गई है।

दुकान के प्रोपराइटर वैभव पुत्र स्व. अखलेश सोनी ने पुलिस को बताया कि उनकी दुकान के ऊपर ही निवास है। कुछ लोगों के चोर-चोर चिल्लाने की आवाज सुनने के बाद जब ऊपर से देखा तो 3-4 आदमी दुकान के बाहर खड़े थे। ऊपर से चिल्लाने पर अंदर घुसे व्यक्ति जिनकी संख्या भी लगभग इतनी थी, वह भागने लगे। ताले खोलकर जब वे नीचे पहुंचे तो चैनल गेट के साथ ही दुकान के ताले टूटे हुए थे और 8 लाख के गहने गायब मिले। साथ ही एलईडी भी चोर ले गए। दुकानदार के मुताबिक घटना से एक दिन पहले उनकी दुकान पर दो अज्ञात लोग चांदी की अंगूठी लेने आए थे जिनका हुलिया सीसीटीवी फुटेज में दिख रहे चोरों से मिलता जुलता है। भागते में करीब 50 से 70 ग्राम वजन का सामान सड़क पर गिरा मिला।

चोर बोला, अंदर चले जाओ

पड़ोसी जगदीश शर्मा ने बताया कि मेरा घर दुकान के सामने ही है। रात करीब 3.50 बजे जब ताला टूटने के साथ शटर उठाने की आवाज से पत्नी जागी तो उन्होंने मुझे जगा दिया। गेट खोलकर बाहर आया ही था कि मुंह बांधे एक चोर बोला चुपचाप अंदर चले जाओ। डर से अंदर गया और तत्काल सभी को फोन लगाकर जगाना शुरू कर दिया। 
 
भाग जा नहीं तो गोली मार देंगे
अचानक चोर-चोर की आवाज से नींद खुली तो मैं और मेरा भाई दीपक उठकर बाहर आए। चोरों को दौड़ते देख लगा कि मोहल्ले के लोग दौड़ रहे होंगे तो हमने भी पीछा करना शुरू कर दिया। उन्होंने दौड़ते-दौड़ते गाली दी तो हमने भी गालियां देना शुरू कर दिया। भागते में एक तालाब के पास गिरा तो और बदमाश रुके और पलटकर बोले कि भाग जा नहीं तो गोली मार देंगे। उनके हाथों में हथियार देखकर हम वापस आ गए। रवि त्यागी, चोरों का पीछा करने वाला युवक।


दुकान को सील करना पड़ा, क्योंकि फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट पीएससी परीक्षा देने गए थे: घटना के बाद एएसपी सुनील कुमार शिवहरे, एसडीओपी लक्ष्मी सिंह,टीआई दीपक यादव, एफएसएल अधिकारी, डॉग स्क्वायड सहित अन्य लोगों ने भी पहुंचकर घटना स्थल का निरीक्षण किया। इसके बाद दुकान को सील कर दिया गया क्योंकि रविवार को पीएससी परीक्षा होने की वजह से अशोकनगर और गुना दोनों ही जिले के फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट परीक्षा देने के लिए गए थे।

घटना के बाद पुलिस ने अभी तक यह किए प्रयास
घटना के बाद घटना स्थल का निरीक्षण करने के अलावा दोनों टोलों से शनिवार सुबह 10 से रविवार की सुबह 10 बजे तक के फुटेज मंगाए हैं। इसके अलावा इस तरह की वारदात में शामिल रहे पुराने पारदियों से हुलिया मिलाया जा रहा है। डॉग स्क्वायड भी करीब दो किमी तक डेंगा मोछार और पिपरौदा के रास्ते तक गया, वहां से दो रास्ते होने पर वापस आ गया।

ये संयोग या अपराधियों की नए एसपी को चुनौती
जिले का संयोग कहें या फिर नए पुलिस अधीक्षक को चुनौती। पिछले सालों में कुछ इसी तरह की घटनाएं जिले में हुई हैं। एसपी कुमार सौरभ के पदस्थ होने पर रावंसर में डकैती हुई थी। इसके बाद धर्मेन्द्र भदौरिया के आते ही शराब कारोबारी के यहां डकैती हुई। फिर एसपी तिलक सिंह के आते ही राजपुर में मर्डर और अपहरण हुआ था। फिर एसपी सुनील जैन के पदस्थ होने पर नईसराय बीसोर में डकैती के साथ डबल मर्डर हुआ था और अब एसपी राजेश सिंह के पदस्थ होती ही फिर बड़ी चोरी की घटना को बदमाशों ने अंजाम दिया।

दो माह पहले हुई वारदात का भी नहीं लगा सुराग
ईसागढ़ में दो माह पहले भी तहसील के पास जयपाल सिंह के घर पर चोरी हुई थी। जिसमें बड़ी संख्या में गहने और नकदी चोरी होने की शिकायत दर्ज कराई थी। लेकिन उसका भी सुराग नहीं लगा है।