बिलासपुर

बिलासपुर / कानन पेंडारी में वॉशरूम उपयोग करने पर एसडीओ हुए नाराज तो एसडीएम की शिकायत पर उन्हें तीन घंटे थाने में बिठाया

बिलासपुर

बिलासपुर. छत्तीसगढ़ के बिलासपुर स्थित कानने पेंडारी चिड़ियाघर में महज वॉशरूम को लेकर दो प्रशासनिक अफसरों के बीच विवाद हो गया। परिवार के साथ चिड़ियाघर घूमने पहुंचे कवर्धा एसडीएम ने अधीक्षक के कमरे का वॉशरूम इस्तेमाल कर लिया। इसके चलते अधीक्षक भड़क गए और उन्होंने नाराजगी जाहिर की। इसके चलते एसडीएम को काफी बुरा लगा। आरोप है कि उन्होंने अपने साथी एसडीएम से इसकी शिकायत कर दी। जिसके बाद एसडीओ की गाड़ी का चालान कर उसे जब्त कर लिया गया और उन्हेंे तीन घंटे तक थाने में बिठाए रखा। इस मामले में वन अमले ने कमिश्नर, कलेक्टर और आईजी को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग की है। 

वॉशरूम उपयोग करने पर चपरासी और चौकीदार को लगाई थी एसडीओ ने फटकार

दरअसल, रविवार को कवर्धा एसडीएम परिवार के साथ कानन पेंडारी घूमने आए थे। उन्होंने अधीक्षक विवेक चौरसिया के दफ्तर का वॉशरूम उपयोग किया। इससे वे नाराज हो गए और अपने कर्मचारी व चौकीदार को इसके लिए फटकार लगाई। कवर्धा एसडीएम विपुल गुप्ता को इस बात का बुरा लगा और उन्होंने कोटा एसडीएम आनंद स्वरूप तिवारी को फोन कर कथित दुर्व्यवहार की शिकायत की। कुछ देर बाद अधीक्षक को सकरी पुलिस ने थाने में बिठा लिया। उनका वाहन जब्त कर मोटरवीकल एक्ट का मामला बना दिया।

इस दौरान करीब तीन घंटे तक अधीक्षक को थाने में बिठाकर रखा गया। सोमवार को इस कार्रवाई के विरोध में अधीक्षक विवेक चौरसिया, डीएफओ सत्यदेव शर्मा और वन अधिकारी कमिश्नर, आईजी व कलेक्टर से मिले। उन्हें मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन सौंपा और इस मामले की जांच कर कार्रवाई की मांग की। इसके लिए उन्होंने सात दिन का समय दिया है। इनमें डीएफओ, एसडीओ, रेंजर, डिप्टी रंेंजर, वाहन चालक, क्लर्क, चपरासी व वन विभाग के अन्य कर्मचारी शामिल थे। अधीक्षक विवेक चौरसिया इन दिनों एसडीओ के प्रभार पर हैं। 

मैंने दुर्व्यवहार के बारे में पूछा

फोन पर कवर्धा एसडीएम के साथ दुर्व्यवहार के बारे में पूछा था। एसडीओ की  गाड़ी चेकिंग के दौरान जब्त की गई। उनके पास लाइसेंस व पेपर नहीं थे। इसके बाद क्या हुआ मुझे भी नहीं पता। 

आनंद स्वरूप तिवारी, एसडीएम कोटा

कोई शिकायत नहीं है 

परिवार सहित घूमकर आ भी गया हूं। एसडीओ ने कोई शिकायत भी नहीं की है। हमें वन विभाग से कोई आपत्ति भी नहीं है। उनके कर्मचारियों के बताने पर ही महिलाओं ने अधीक्षक के दफ्तर के अंदर वॉशरूम का उपयोग किया था। 

विपुल गुप्ता, कवर्धा एसडीएम

बदले की भावना से कार्रवाई की गई

कोटा एसडीएम आनंद स्वरूप तिवारी ने बदले की भावना से कार्रवाई की। यह आपत्तिजनक है। इससे मुझे मानसिक पीड़ा हुई है। इस परिस्थितियों में ड्यूटी करने में कठिनाई महसूस कर रहा हूं। 

विवेक चौरसिया, अधीक्षक कानन पेंडारी