राजगढ़

वृद्ध महिला की हत्या करने वाले हत्यारों को किया पुलिस ने गिरफ्तार । पुलिस के अथक प्रयासों से मिली सफलता।

राजगढ़

 

थाना सुठालिया, जिला राजगढ़


          
           कोरोना संक्रमण महामारी के इस दौर में लॉक डाउन के चलते जहां जनमानस विपरीत परिस्थितियों में अपने घरों में रहकर जीवनयापन करने को मजबूर हैं वहीं सुठालिया के ग्राम सालरिया खेड़ी में दिनांक 16/05/2020 को एक वृद्ध महिला की हत्या की खबर ने सभी का ध्यान इस ओर आकर्षित किया, और सोशल मीडिया पर इस खबर को काफी वायरल किया गया जिला पुलिस ने भी मामले में तेजी दिखाते हुए हत्या की गुत्थी को जल्द से जल्द सुलझाने में बड़ी सफलता प्राप्त की। 
           थाना सुठालिया की डायल 100 पर ग्राम सालरिया खेडी में सापल नाले के पास एक महिला के शव पड़े होने की सूचना प्राप्त हुई थी,  सूचना पर त्वरित  कार्रवाई करते हुए थाना प्रभारी सुठालिया उनि जगदीश गोयल थाने के स्टाफ के साथ मौके पर ग्राम सालरियाखेडी पहुचे, घटनास्थल का मंजर हतप्रभ कर देने वाला था मौके पर एक वृध महिला जिसके दोनो पैर कटे थे नाले के पास पडी, शव की शिनाख्त हेतु पूछताछ करने पर उक्त शव गांव सालरियाखेडी निवासी भूली बाई पति किशनलाल बलाई उम्र 85 साल का होना पाया गया, अग्रिम जांच करने पर पता चला की किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा रात में महिला के पैर काटकर उसकी हत्या की गई ओर उसके पांव के कडे लूट कर ले गये।
           उक्त गंभीर मामले की सूचना तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई, जिला पुलिस कप्तान श्री प्रदीप शर्मा द्वारा मामले में तत्काल अग्रिम कार्यवाही करते हुए अपराधियों की धरपकड़ के दिशा निर्देश दिए गए, अज्ञात आरोपियों के विरुद्ध थाना सुठालिया में अपराध क्रमांक 172/2020 धारा 302, 201, 397 भादवि के तहत पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
          मामला सनसनीखेज एवं  हत्या से जुड़ा गंभीर प्रकृति का होने से पुलिस अधीक्षक श्री प्रदीप शर्मा द्वारा तत्काल थाना प्रभारी सुठालिया के नेतृत्व में टीम गठित कर  इस मामले को जल्द से जल्द  उजागर करने  के निर्देश  दिए गए  टीम ने भी देर न करते हुए मुखबिरों को काम पर लगाया और अज्ञात आरोपी (हत्यारो) की तलास प्रारम्भ की गई। 
             जैसे जैसे मामले में  अग्रिम विवेचना की जा रही थी  वैसे वैसे  ग्राम  के लोगों से पूछताछ करने पर  नए-नए खुलासे  हो रहे थे  इसी क्रम में  एक महत्वपूर्ण जानकारी पुलिस को  मिली, ज्ञात हुआ कि दिनांक 15/05/2020 को उक्त महिला भूलीबाई को गांव के रामसिंह बलाई व बीरम बलाई निवासी ग्राम सालरियाखेडी के साथ आखिरी बार देखा गया था, इस सूचना को मामले से जोड़कर देखते हुए गंभीरता से लिया गया और तस्दीक हेतू रामसिंह बलाई व बीरम बलाई निवासी सालरियाखेडी से पूछताछ की गई, दोनों ही संदेही पूछताछ के दौरान  पहले तो  यहां वहां की बातें करते रहे  और पुलिस को बातों में उलझाते रहे पर आखिरकार दोनो टूट गये ओर दोनो ने जो बताया वो बहुत की भयवार व डरावना था।
              पुलिस टीम द्वारा रामसिंह व बीरम के कथन लिए गए जिसमें उन्होंने बताया कि भूलीबाई गावं के रिश्ते से हमारी काकी लगती थी जिसे हम जीजी भी बालेते थे ओर उसका हमारे घर पर आना जाना था। दिनांक 15/05/2020 को हम दोनो बाप बेटे बीरम बलाई व बीरम बलाई का लडका रामसिंह बलाई साथ में शराब पी रहे थे, उसी दिन शाम को भूलीबाई हमारे पास आई ओर हम दोनो से कहा सुनी करने लगी तो शराब के नशे में हमने रात करीब 08/00 बजे उसका गला दबा कर उसकी हत्या कर दी ओर रात को करीब 11/00 बजे हम दोनो भूलीबाई को सापल नाले में पास ले गये ओर कुल्हाडी से उसके दोनो पैर काट दिये ओर दोनो पैर के कडे निकाल लिये।
           पुलिस टीम के अथक प्रयासों से घटना दिनांक के 06 दिन के अंदर ही भूलीबाई बलाई के हत्यारो राम सिहं पिता बीरम बलाई उम्र 40 साल सर्व निवासी ग्राम सालरियाखेडी, बीरम पिता देवाजी बलाई उम्र 70 साल  निवासी ग्राम सालरियाखेडी को गिरफ्तार किया गया, आरोपीयान के कब्जे से घटना में प्रयुक्त कुल्हाडी एवं लूटे गये चांदी के 300 ग्राम के कडे कीमती 12000 रू. एवं मृतिका भूली बाई का एक पैर बरामद किया गया। आरोपीगणो को जल्द ही माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जावेगा। 
          अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री नवल सिंह सिसोदिया एवं अनुविभागीय पुलिस अधिकारी सुश्री किरण अहिरवार के मार्गदर्शन में थाना सुठालिया के अंधे कत्ल व लूट के मामले के खुलासे में थाना सुठालिया में गठित टीम उनि जगदीश गोयल थाना प्रभारी सुठालिया, सउनि सूरज सिहं जादौन , सउनि अरूण जाट (थाना देहात ब्यावरा), प्रआर. 463 नन्द किशोर दांगी , आर. 108 मनोहर साहू , आर. अरविन्द शर्मा एसडीओपी कार्यालय ब्या वरा आर. 687 सूरज चावलिया , आर. 529 प्रदीप राजपूत , आर. 331 चन्द्र किशोर मीणा , आर. 162 विनोद चौधरी , आर. राजेश एसडीओपी कार्यालय ब्या वरा , म.आर. 945 प्रीति राजपूत , म.आर. 987 इतिश्री , म.आर. 1047 अंकिता राजपूत , आर. शशांक यादव सायबर सेल राजगढ , आर. 175 कैलाश नायक , आर. 1005 बने सिहं , आर. 583 सतीश त्यागी कार्यालय ब्यावरा की महत्वपूर्ण भूमिका रही ।