राजगढ़

3 दिन पूर्व हुई लूट का पुलिस ने किया पर्दाफाश। उधारी चुकाने के लिए रची लूट की साजि।

राजगढ़

 

             अपने नाजायज शौक के चलते उधार लेकर अपने जीवन को अंधकार में धकेलने वाला तो आप लोगों ने सुना होगा परंतु अपनी ही गलती से की गई उधारी को चुकाने के लिए साजिश का सहारा लेकर अपने ऊपर ही लूट होने की झूठी खबर देने वाले व्यक्ति को पुलिस ने दबोच लिया है। 
            जिला पुलिस कप्तान श्री प्रदीप शर्मा के द्वारा इस मामले में विशेष निर्देश पचोर पुलिस को दिए  साथ ही घटना का बारीकी  से मूल्यांकन कर अपराध का त्वरित निराकरण करने के निर्देशों के तहत थाना प्रभारी पचोर सुनील श्रीवास्तव ने अति पुलिस अधीक्षक श्री नवलसिह सिसोदिया एंव एसडीओपी सारंगपुर श्री पदमसिंह बघेल के मार्ग दर्शन मे पचोर पुलिस द्वारा 3 दिवस पूर्व हुई लूट की घटना का पर्दाफाश किया गया है। 
         गौरतलब है कि दिनांक 23.05.20 को फरियादी शरीफ खाँ पिता नूर खाँ उम्र 27 साल निवासी ग्राम मऊ थाना सारंगपुर द्वारा उसके साथ पटाडिया धाकड जोड के आगे एबी रोड पर तीन अज्ञात बाईक सवारों द्वारा 48,700/- रुपये व एक रेडमी कंपनी का मोबाईल की लूट किये जाने की रिपोर्ट की गई थी, जिस पर थाना पचोर मे अप क्र 189/20 धारा 394,34 भादवि का पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया।
            मार्केट के सीसीटीव्ही फुटेज देखकर जब फरियादी शरीफ खाँ से पूछताछ की तो उसने लूट के समय मो.सा. स्टार सिटी सफेद रंग की होना बताया, जबकि सीसीटीव्ही फुटेज मे फरियादी शरीफ द्वारा काले रंग की होंडा साईन का उपयोग किया गया था। फरियादी शरीफ खाँ से जब हिकमतअमली से पूछताछ की तो वह टूट गया और जो 48,700/- रुपये पचोर के फल व्यापारी दीपक खटीक के द्वारा इंदौर के सेठ इमरान अली के कहे अनुसार मुन्ना भाई को देने के लिये दिये थे उसे अपने घर रखकर एवं अपना रेडमी कंपनी का मोबाईल स्विच आँफ कर , झूठी कहानी बनाकर तीन व्यक्तियों द्वारा पल्सर मो.सा. से उसके साथ लूट करने की झूठी रिपोर्ट थाना पचोर मे दर्ज कराई । पुलिस द्वारा फरियादी शरीफ खाँ के कब्जे से 100-100 रुपये के 387 नोट एवं 50-50 रुपये के 200 नोट कुल रकम 48,700/- रुपये एवं उसका रेडमी कंपनी का मोबाईल विधिवत जप्त किया गया। इस प्रकार थाना पचोर पुलिस द्वारा 72 घंटे के भीतर लूट की घटना का पर्दाफाश किया गया। झूठी रिपोर्ट करने पर शरीफ खाँ के विरुद्ध धारा 182/211 भादवि की कार्यवाही की जा रही  है । 
           उक्‍त उल्लेखनीय कार्य मे थाना प्रभारी पचोर सुनील श्रीवास्तव के मार्गदर्शन मे थाना पचोर के उनि शैलेशचंद्र कर्नाटक और उनकी टीम उनि धर्मेन्द्र शर्मा, आर 839 सुनील जाट, आर 301 अक्षय , आर 603 मोहन व आर 720 भानू की मुख्‍य भूमिका रही, साथ ही सायबर सेल से आरक्षक 252 शशांक सिंह व आरक्षक 816 रवि का सराहनीय योगदान रहा ।