ग्वालियर

चुनावों में हॉस्टल में रुकी फोर्स, 2.5 लाख का बिल जमा नहीं, किराए से रह रहे छात्र

ग्वालियर

4 करोड़ रुपए की लागत से बने आदिम जाति कल्याण विभाग के नए छात्रावास में चुनाव के दौरान रुकी फोर्स ने एक माह में 2.5 लाख की बिजली जला दी। अब बिल भरने काे न प्रशासन तैयार है अाैर न ही विभाग। नया कनेक्शन देने से बिजली कंपनी ने हाथ खड़े कर दिए हैं। नतीजा यह कि छात्रावास में ताले पड़ गए हैं और 120 छात्र किराए से रहने काे मजबूर हैं। 


एक साल पहले छत्री रोड पर पीआईयू ने छात्रावास का काम पूरा किया था लेकिन यह विभाग को हैंडओवर नहीं हो सका। इसी बीच विधानसभा चुनाव आ गए और उद्घघाटन  के पहले ही फोर्स को रुकने के लिए आवंटित कर दिया। इस दौरान 35 हजार रुपए का बिजली बिल आया जो जमा नहीं किया गया। लोकसभा चुनाव में फिर यहां फोर्स को रोक दिया गया। इस दौरान 1 लाख 78 हजार रुपए का बिल आया। भुगतान न होने से बिल बढ़कर 2.5 लाख रुपए हो गया। 

नया कनेक्शन नहीं : हमने पुलिस, कलेक्टोरेट, पीआईयू सभी से भुगतान की बात कही। कोई तैयार नहीं। पहले से रिकवरी हो तो कैसे नया कनेक्शन देंेगे। - एके साहू, डीई, बिजली कंपनी

मामला दिखवा लेंगे  : मैं दिखवा लेती हूं,क्या मामला है। लोकसभा चुनाव के दौरान वहां फोर्स रुका है तो बिजली बिल का भुगतान हम करा देंगे। - अनुग्रहा पी, कलेक्टर, शिवपुरी